लोगों के निशाने पर क्यों आये बीडीओ साहब,पढ़िए ये खबर

0
2134

चन्दन कुमार/शेखपुरा

शेखपुरा – नगर परिषद चुनाव को लेकर मतदाता सूची प्रारुप प्रकाशन के दावा आपति में धांधली से जुड़े मामले में शेखपुरा बीडीओ का वायरल वीडियो राजनैतिक महकमें में घमासान मचा दिया है। इस मामले को लेकर कई नेताओं ने जहां बीडीओ के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है वहीं जन शिकायत निवारण केंद्र में भी इसकी शिकायत की गई है। यह पूरा मामला नगर परिषद क्षेत्र के वार्ड नंबर 18 से जुड़ा हुआ है। इसी मामले को लेकर शिकायत के लिए प्रखंड विकास पदाधिकारी के समक्ष गए तो बीडीओ की कार्यशैली को लेकर ना केवल घमासान मचा। बल्कि प्रखंड विकास पदाधिकारी का वीडियो भी वायरल हुआ जो कि काफी चर्चा का विषय बना हुआ है। आवेदको में मिथलेश कुमार सिन्हा, प्रमोद कुमार, रंजन कुमार ,अखिलेश कुमार ,अरुण कुमार ने कहा कि मतदाता सूची में व्यापक गड़बड़ी को लेकर दावा आपति दर्ज कराई गई थी तथा दर्ज आपत्ति में साक्ष्य भी मौजूद थे। परंतु प्रखंड कार्यालय से आवेदकों की संचिका को ही गायब कर दिया गया। इस मामले को लेकर जब वे लोग शिकायत करने प्रखंड कार्यालय गए तो बीडीओ उनकी बातों को गंभीरता से लेने की बजाए न केवल उनकी बातों को अनसुना किया बल्कि जब तक वे लोग कार्यालय में बीडीओ के सामने मौजूद रहे, तब तक बीडीओ अपना पैर टेबल के ऊपर रखकर अमर्यादित तरीके से उनकी बातों को अनसुना करते रहे। आवेदक ने कहा कि बीडीओ का जनता के सामने कार्यालय में टेबल पर पैर रखकर बैठना तानाशाही व्यवस्था को दर्शाता है और अधिकारी के इस कार्यशैली से वे लोग अपमानित महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कार्यालय से फाइल के गायब होने तथा बीडीओ द्वारा सरकारी सेवक के मर्यादाओं का उल्लंघन करने के मामले में ठोस कार्रवाई की मांग की है। वही बीडीओ ने कहा कि लगातार इंटरमीडियट,मैट्रिक परीक्षा सहित डोर तो डोर मतदाता सूची सुधारने की ड्यूटी के कारण उनके पैर में गहरी चोट तथा कमर में काफी दर्द के कारण वे कमर में बेल्ट लगाने को विवश हैं तथा इसी कारण वे इस तरह पैर रखने पर मजबूर थे तथा इलाज के लिए वे बाहर जा रहे हैं। उन्होंने साफ़ तौर पर कहा कि कुछ बड़े रसूखदार जबर्दस्ती वार्ड नं 19 के मतदाताओं का नाम वार्ड नं 18 में जुड़वाना चाहते थे,नहीं करने के दिशा पर वीडियो खींचकर वायरल किया गया है। जिन दिन विडियो खिंचा गया उस दिन रविवार था और लगातार काम के बाद लौटने पर कमर में दर्द उठी थी। इसलिए वे दर्द की राहत से पैर ऊपर कर बैठ गए थे। यह कोई बड़ी बात नही है ,समय पर बीडीओ को जमीन पर भी सोना पड़ता है। यदि कोई मुद्दा बनाना चाहते है वे बना सकते है।