केंद्र ने जारी किए सुपारीयुक्त उत्पादों के लिए तय कानून लागू करने के आदेश

0
59

नई दिल्ली, (हि.स.)। केंद्र सरकार ने सुपारी जनित मुख कैंसर के खतरों को देखते हुए सुपारीयुक्त उत्पादों गुटखा व पान मसाला के उपयोग के लिए संबंधित कानून को लागू करने के आदेश जारी किए हैं। इसके लिए केंद्र सरकार ने सुपारी के उपयोग पर रोक लगाने के लिए सभी राज्य सरकार और केंद्र शासित प्रदेशों को सुपारीयुक्त गुटखा, पान मसाला के विनिर्माण, बिक्री और भंडारण पर रोक लगाने के लिए खाद्य सुरक्षा एवं मानक (बिक्री निषेध एवं प्रतिबंध) विनियम-2011 को कार्यांवित करने के आदेश जारी किए हैं।

लोकसभा में शुक्रवार को पूछे गए एक प्रश्न के लिखित उत्तर में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री अनुप्रिया पटेल ने कहा कि सुपारी के कारण पेरियोडोंटिटिस, ब्यूक्कल म्यूकोसिटिस, सब म्यूकस, फिबरोइसिस तथा ल्यूकोप्लाकिया की समस्या होती है। इस कारण मुंह का कैंसर होता है। सुपारी के नियमित सेवन से मसूड़े और दांत खराब हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि सुपारी के उपयोग पर रोक लगाने के लिए सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को सुपारीयुक्त गुटखों के विनिर्माण, बिक्री और भंडारण पर रोक लगाने के लिए खाद्य सुरक्षा एवं मानक (बिक्री निषेध एवं प्रतिबंध) विनियम-2011 को कार्यान्वित करने के आदेश जारी किए हैं।

उन्होंने कहा कि चूंकि स्वास्थ्य राज्य का विषय है, इसलिए राज्य में नागरिकों को स्वास्थ्य परिचर्या प्रदान करने के राज्य सरकार की कोशिशों में वृद्धि करने के लिए केंद्र सरकार राष्ट्रीय मुख स्वास्थ्य कार्यक्रम के माध्यम से उन्हें सभी सहायता प्रदान करती है।