नई दिल्ली, (हि.स.)। भारतीय रेल के शोध विभाग ‘अनुसंधान अभिकल्प व मानक संगठन’ (आरडीएसओ) ने अपनी पंजीकरण प्रक्रिया में आमूलचूल परिवर्तन करते हुए नई ऑनलाइन विक्रेता पंजीयन प्रणाली शुरू कर दी है। पंजीयन के लिए अब किसी भी विक्रेता को आरडीएसओ कार्यालय आने की जरूरत नहीं पड़ेगी| इतना ही नहीं, अब उन्हें सीमित अवधि के बजाए साल के 365 दिन पंजीकरण की यह सुविधा मिलेगी।

AdvertisementRelated image

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने बताया कि रेल मंत्रालय के अधीन कार्यरत आरडीएसओ का फोकस नए वेंडर मंजूर करने और उसकी प्रक्रिया की जटिलताओं को दूर करने पर है। इसके लिए हमने आरडीएसओ की मंजूरी प्रक्रिया में आमूलचूल परिवर्तन किया है। आरडीएसओ के 600 आइटम हैं। उन्होंने कहा कि इसके लिए पहले हम पंजीकरण की प्रक्रिया को सीमित अवधि के लिए खोलते थे लेकिन अब 365 दिन प्रत्येक आइटम के लिए छूट है| कोई भी नई पार्टी आना चाहे, वह अपना आवेदन कर सकती है। यह देश या विदेश कहीं से भी हो सकती है।

रेल मंत्रालय के अनुसार नई प्रणाली के अंतर्गत पंजीयन के लिए कई बदलाव किये गये हैं| जैसे, आम लोगों की जानकारी तक पहुंच, निश्चित समयावधि में प्रक्रिया पूर्ण करना, प्रक्रियाओं को सरल बनाना, पूरे साल पंजीयन की सुविधा, आरडीएसओ की वेबसाइट पर जानकारियों की उपलब्‍धता, सभी स्‍तरों पर निरंतर निगरानी, ऑनलाइन आंकड़ों का निरंतर अद्यतन, वेबसाइट के उपयोग में आसानी आदि। इसके अलावा नई प्रणाली में पंजीयन की किसी भी गतिविधि के लिए विक्रेता को आरडीएसओ कार्यालय आने की आवश्‍यकता नहीं है। पंजीयन से संबंधित सभी प्रक्रियाओं के लिए समयावधि निश्चित की गई है। यदि विलंब होता है, तो प्रणाली सभी संबंधित अधिकारियों को फ्लैश के माध्‍यम से सूचना देती है। दस्‍तावेजों की जांच तथा पंजीयन से संबंधित अन्‍य जांच सामानांतर किये जाएंगे। इससे समय की बचत होगी। पहले जांच प्रक्रिया में ही 8 से 11 महीने लगते थे। प्रक्रिया को सरल और उपयोग में आसान बनाया गया है। अब विक्रेता पंजीयन के लिए ऑनलाइन पंजीयन शुल्‍क जमा कर सकता है| दस्‍तावेज जमा कर सकता है| तकनीकी जानकारियां प्राप्‍त कर सकता है और आरडीएसओ से ऑनलाइन बातचीत कर सकता है। इसके अलावा पूरी प्रक्रिया की एकीकृत निगरानी के लिए एक डैशबोर्ड की व्‍यवस्‍था की गई है।

 

आरडीएसओ ने सभी 600 से अधिक वस्‍तुओं व सेवाओं के लिए अभिरूचि पत्र आमंत्रित किए हैं। इसके लिए कोई समय सीमा निर्धारित नहीं की गई है। उद्योग जगत और विक्रेताओं के लिए यह सुविधा है कि वे रेलवे के लिए नये उत्‍पाद व नई तकनीक विकसित करें। नए विक्रेता पूरे वर्ष के किसी भी दिन, किसी भी वस्‍तु के लिए पंजीयन कर सकते हैं। इससे लघु व मध्‍यम उद्यमों को व्‍यापार के बड़े अवसर मिलेंगे और इस प्रकार रोजगार के अवसरों का सृजन संभव होगा।

 

आरडीएसओ की वेबसाइट पर वस्‍तुओं की सूची दी गई है। प्रत्‍येक वस्‍तु के लिए विक्रेता पंजीयन की समय सीमा भी उपलब्‍ध कराई गई है। आरडीएसओ तय समय सीमा में पंजीयन की प्रक्रिया पूरी करने का प्रयास करेगा।

 

विक्रेता पंजीयन से संबंधित सभी जानकारियां व आंकड़े आरडीएसओ की वेबसाइट पर उपलब्‍ध है। कोई भी व्‍यक्ति वेबसाइट के माध्‍यम से जानकारी प्राप्‍त कर सकता है। आम लोगों और सभी हितधारकों के लिए वेबसाइट पर उपलब्‍ध जानकारियों को निरंतर अद्यतन किया जाता है।

 

AdvertisementRelated image