नई दिल्ली, (हि.स.)। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में गुजरात और हिमाचल प्रदेश में चुनाव हारने को कांग्रेस ने मोर्चे पर हार लेकिन जंग में खुद की जीत बताया है। कांग्रेस ने सोमवार को कहा कि ये राहुल गांधी की पहली हार नहीं, ‘गुजरात में शिकस्त अहंकार की हुई है, जनता ने अहंकार, धनबल, सत्ता बल को आइना दिखा दिया है। हम दोनों राज्यों में जनता के फ़ैसले को सर झुका कर स्वीकार करते हैं।’

AdvertisementRelated image

वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने स्वयं चुनावों में हुई हार को स्वीकार करते हुए इन चुनावों को नफरत के खिलाफ गरिमा की लड़ाई बताया। राहुल ने नई सरकारों को बधाई देते हुए दोनों प्रदेशवासियों का आभार प्रकट करते हुए कार्यकर्ताओं का हौसला भी बढ़ाया। राहुल ने इन चुनावों को नफरत के खिलाफ गरिमा की लड़ाई करार दिया। वहीं दूसरी तरफ हार से हताश कुछ कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने एक बार फिर इसका दोष ईवीएम पर डालते हुए सन्नाटा पसरे मुख्यालय के बाहर ईवीएम के जरिए मतदान का विरोध करते हुए प्रदर्शन किया।

कांग्रेस महासचिव और गुजरात प्रभारी अशोक गहलोत ने हिन्दुस्थान समाचार से बातचीत में कहा, ‘राहुल गांधी ने गुजरात में बहुत अच्छा प्रचार किया। राहुल की हर रैली अच्छी रही। हमने मुद्दों की राजनीति की, पर उन्हें (भाजपा को) गुजरात की अस्मिता की राजनीति और सी प्लेन तक को चुनाव में लाना पड़ा। जब ध्रुवीकरण की कोशिश फ़ेल हो गई तो भाजपा और मोदी ने भावनात्मक बातों से गुजरात की जनता को गुमराह करना शुरू कर दिया।’

गहलोत ने कहा, ‘प्रधानमंत्री ने निजी हमले किए लेकिन हमने संयम के साथ चुनाव प्रचार किया। चुनाव परिणाम कुछ भी हो, नैतिकता के आधार पर कांग्रेस की जीत हुई है। वहीं मोदी जी को उनके नेताओं ने झुका दिया है। हिमाचल प्रदेश प्रभारी और पूर्व केंद्रीय मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने कहा, ‘हिमाचल में इतनी तगड़ी चुनौती दी है कि वहां भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार पीछे रह गए।’

सुरजेवाला ने कहा, ‘चुनाव आयोग की साइट पर कांग्रेस और उसके सहयोगी 84 सीटों पर अभी तक जीत चुके हैं। एक बात तय है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भाजपा को 99 के फेर में उलझा दिया है। गुजरात के मुद्दे और उनका हल अब भी बाक़ी है, उन सबके लिए भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस लड़ती रहेगी।’

सुरजेवाला ने हिमाचल प्रदेश में भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार प्रेम कुमार धूमल का जिक्र करते हुए कहा, ‘भाजपा ये न भूले कि हिमाचल प्रदेश में उनके मुख्यमंत्री पद के चेहरे धूमल जी चुनाव हार गए हैं। भाजपा ये भी न भूले कि मोदी जी अपने गृह क्षेत्र में चुनाव हार गए हैं।’

सुरजेवाला ने चुनाव आयोग पर तंज करते हुए कहा, ‘छाती बड़ी तो क्या? अब दिल भी बड़ा कीजिये। अब मत कीजिए कांग्रेस मुक्त भारत की कल्पना, खुल के विकास कीजिए। देश के इतिहास में ये पहला अवसर था जब मत गणना की तारीख़ पहले और मतदान की तारीख़ बाद में घोषित की गई। हम मोर्चा हारे हैं लेकिन जंग जीत गए हैं। भाजपा की सहूलियत से तारीख तय की गई। राहुल गांधी का साक्षात्कार तक नहीं दिखाने दिया। आयोग ने राहुल गांधी को नोटिस जारी किया लेकिन मोदी जी का रोड शो जारी रहा। हालांकि चुनावों के बाद नोटिस वापस भी लिया गया।’

सुरजेवाला ने प्रधानमंत्री मोदी के विकास और 56 इंच सीने के नारे पर तंज कर कहा, ‘छाती बड़ी तो क्या, अब दिल भी बड़ा कीजिए, लड़खड़ाते विकास को अब तो खड़ा कीजिए।’ उन्होंने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के 150 से अधिक सीटों के गुजरात में जितने के संकल्प पर चुटकी लेते हुए कहा, ‘कई जंग है और कई मोर्चे हैं, गुजरात की जनता के दिल जीतने की लड़ाई हमने जीती है। परन्तु, 150 से कम सीटों पर जश्न न मनाने वाली पार्टी भाजपा आज जश्न मना रही है।’

सुरजेवाला ने कहा, ‘इस देश मे प्रजातंत्र की रक्षा करने की जिम्मेदारी चुनाव आयोग की है लेकिन आज उसकी निष्पक्षता पर सवाल उठ रहे हैं। 16 हज़ार करोड़ का वीवीपैट सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर पहले ही खर्च कर दिए गए हैं। जहां कम मार्जिन से कोई हार रहा है, वहां पेपर ट्रेल से जांच की जा सकती है।’

अल्पेश, जिग्नेश और हार्दिक ने कांग्रेस का कितना साथ दिया इस सवाल पर सुरजेवाला ने कहा, ‘समाज के वो सारे हिस्सों और समूह जिनको भाजपा ने प्रताड़ित किया, उन्होंने कांग्रेस का साथ दिया।’

कांग्रेस प्रवक्ता अजॉय कुमार ने पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी का बचाव करते हुए कहा, ‘हिमाचल और गुजरात दोनों में कांग्रेस ने भाजपा को कड़ी टक्कर दी। राहुल गांधी के नेतृत्व में कहीं कोई कमी नहीं है।’ जबकि कांग्रेस प्रवक्ता जयवीर शेरगिल ने कहा, ‘हिमाचल में कांग्रेस ने अच्छा किया। हम केवल गुजरात को क्यों देख रहे हैं। कांग्रेस अध्यक्ष हार से भाग नहीं रहे हैं। हमने हार को स्वीकार करना सीखा है और कांग्रेस को गुजरात में अब भी उम्मीद है। हमने कांटे की टक्कर दी। संगठन में बदलाव हुआ और उस बदलाव के बेहतर परिणाम दिख रहे हैं। राहुल गांधी अच्छा कर रहे हैं और उसके आगे भी उनसे ऐसी ही उम्मीद है।’
उल्लेखनीय है कि आज जारी हुए परिणामों के अनुसार, फ़िलहाल गुजरात में भाजपा-99, कांग्रेस-80 और हिमाचल प्रदेश में भाजपा-44, कांग्रेस-21 सीटों पर बढ़त बनाए हुए है।

AdvertisementRelated image