खगड़िया -छठ पर्व को लेकर समाज जहां भक्तिमय माहौल में डूब गया है वहीं विभिन्न छठ घाटों की साफ-सफाई का कार्य भी लगभग पूरा कर लिया गया है। इसी क्रम में आज नगर सभापति सीता कुमारी द्वारा नगर परिषद के सभी सात घाटों का निरीक्षण किया गया। बलुआही घाट, अघोरी स्थान घाट, अड्डा घाट, गायत्री मंदिर घाट, सीढ़ी घाट, दाननगर घाट एवं गौशाला पोखर का निरीक्षण किए जाने के दौरान उन्होंने बताया कि इस बार सभी घाट ठीक है। कहीं भी दलदल की स्थिति नहीं है इसलिए कहा जा सकता है कि कोई भी घाट सुरक्षा
के दृष्टिकोण से खतरनाक नहीं है।नगर सभापति सीता कुमारी ने कहा कि गायत्री मंदिर घाट, दान नगर घाट एवं बलुआही घाट जाने के रास्ते में थोड़ी बहुत खराबी देखकर उसे अविलब ठीक कराने का निर्देश कनीय अभियंता रौशन कुमार को दे दिया गया है। आदेश के आलोक में नगर परिषद की जेसीबी के सहारे रास्ता ठीक किए जाने का कार्य परवान पर है। संभवतः मंगलवार तक रास्ते को दुरुस्त कर लिया जाएगा। नगर सभापति के मुताबिक सीढ़ी घाट में गंदगी की स्थिति देखकर सफाईकर्मियों को साफ-सफाई के कार्य में लगा दिया गया है। सातों घाटों की सफाई के लिए प्रभारी स्वच्छता निरीक्षक राजीव रंजन को निर्देश दे दिया गया है और यह स्पष्ट आदेशित किया गया है कि दो दिनों के अंदर अतिरिक्त सफाईकर्मियों को रखकर सफाई व्यवस्था दुरुस्त करें। उन्होंने कहा कि नगर परिषद की तरफ से सभी घाटों तथा घाट तक जाने के रास्ते में लाइटिंग की व्यवस्था, सी सी टी वी कैमरा, महिलाओं के वस्त्र बदलने की व्यवस्था, पानी के अंदर बैरिकेटिंग की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। इतना ही नहीं उसमें लाल कपड़ा लगाया जायेगा ताकि लोग बैरिकेटिंग से आगे न जाय। मौके पर मौजूद पूर्व नगर सभापति मनोहर कुमार यादव ने कहा कि नगर परिषद खगड़िया हर वर्ष की भांति इस बार भी सभी छठ घाटों पर विशेष रूप से सफाई अभियान चलाकर दो दिन में सफाई व्यवस्था दुरुस्त करने में लगी है। नगर उपसभापति सुनील कुमार पटेल, सशक्त स्थायी समिति के सदस्य चंद्रशेखर कुमार, नगर पार्षद रणवीर कुमार, हेमा भारती, शिवराज यादव,जितेंद्र गुप्ता,कनीय अभियंता रौशन कुमार, प्रभारी स्वच्छता निरीक्षक राजीव रंजन, पूर्व पार्षद पप्पू यादव, तदर्थ समिति के अध्यक्ष बिनोद कुमार उर्फ गुग्गु यादव, समाजसेवी हंसराज कुमार, कुंजविहारी पासवान उर्फ मुन्ना एवं वार्ड जमादार राजकुमार आदि भी छठ घाटों के निरीक्षण अभियान के क्रम में उपस्थित थे।
राजेश सिन्हा की रिपोर्ट

AdvertisementRelated image