खगड़िया -बाढ़ राहत से लाभुकों को बेदखल किए जाने सहित छह सूत्री मांगों के समर्थन में पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत खगड़िया समाहरणालय के समक्ष
धरना -प्रदर्शन किया गया। त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधियों द्वारा आहुत धरना-प्रदर्शन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि खगड़िया जिले के बाढ़ प्रभावित 6 प्रखंडों के 36 पंचायतवासी बाढ़ राहत से वंचित हैं। वंचित परिवारों को राहत सामग्री और जीआर की राशि देने समेत 6 सूत्री मांगों को लेकर त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधियों द्वारा समाहरणालय के समक्ष धरना प्रदर्शन किया जा रहा है।  मुखिया संघ की अध्यक्ष ममता देवी ने कहा कि बाढ़ राहत वितरण को लेकर जब प्रशासन की मनमानी का विरोध किया तो जन प्रतिनिधियों के विरुद्ध मुकदमा ठोंक दिया गया। उन्होंने कहा कि अधिकारियों की मनमानी को चलने नहीं दिया जाएगा। जिले के सभी पंचायतों में महीनों से वंचित दिव्यांग पेंशन समेत अन्य पेंशन का जल्द भुगतान नहीं किया जा रहा है। प्रमुख संघ के जिलाध्यक्ष बलबीर चांद ने कहा कि बाढ़ प्रभावित किसानों का ऋण माफ़ हो। बाढ़ पीड़ितों को बिना अनुश्रवण समिति से अनुशंसा कराए चौथम सीओ द्वारा दिए गए गलत रिपोर्ट की उच्च स्तरीय जांच कर कार्रवाई होनी चाहिए। इस दौरान जिप उपाध्यक्ष मिथिलेश यादव ने कहा कि जनता मालिक को हक दिला कर रहेंगे। इसके लिए जो भी कुर्बानी देनी पड़े,दी जाएगी। उन्होंने कहा कि जिस जनता ने उन्हें चुना है, उनके हक के लिए आवाज उठाते रहेंगें। इसके लिए प्रशासन जितना मुकदमा करें,जनप्रतिनिधि भोगने को तैयार हैं। मुखिया संघ की प्रखंड अध्यक्ष मनीषा देवी एवं प्रमुख प्रतिनिधि सुजय कुमार संजय ने कहा कि लाभुकों को प्रशासन राहत राशि और फ़ूड पैकेट दे। संघ के अध्यक्ष बलबीर चाँद, उपप्रमुख हीरा लाल यादव, सरपंच मनोज कुमार, मुखिया प्रतिनिधि डब्लू पासवान, पप्पू मार्कण्डेय ,जिप सदस्य योगेंद्र सिंह, चंदन कुमार, प्रवीण कुमार, आबिदा बेगम, प्रियदर्शना सिंह, पिंटू कुमार, जिप प्रतिनिधि राजेश यादव, राजो सहनी, मुखिया संघ के सभी प्रखंड अध्यक्ष, पूर्व जिप सदस्य अजित सरकार, अरुण यादव, सरपंच संघ के जिलाध्यक्ष किरण देव यादव, मुखिया भोला चौधरी, विजेंद्र यादव, नूतन देवी, मख्खन साह सहित त्रिस्तरीय पंचायत जन प्रतिनिधियों के अलावा हजारों की संख्या में लोग मौजूद थे। इस दौरान प्रदर्शनन कर रहे आक्रोशित लोगो ने गेट पर भी जमकर भी प्रदर्शन किया।
राजेश सिन्हा की रिपोर्ट

AdvertisementRelated image