ह्यूज जैकमैन प्रभावित बॉलीवुड फिल्मों से

0
74

लॉस एंजिलिस, लोगान (वॉल्वरीन 3) भारत में 3 मार्च को रिलीज होगी जिसमें ह्यूज जैकमैन हॉलीवुड के एक ऐसे कलाकार हैं, जिन्हें आइकोनिक किरदारों के लिए जाना जाता है। इस सीरीज की यह तीसरी फिल्म होगी, जिसके जरिए वह अपने प्रशंसकों के सामने आ रहे हैं। इसमें वह जेम्स लोगान हॉवलेट के किरदार में दिखाई देंगे लेकिन इससे भी ज्यादा अच्छी बात यह है कि जैकमैन की यह फिल्म भारत में रिलीज हो रही है और इसे लेकर वह भी उत्साहित हैं। उन्होंने जेम्स मैनगोल्ड, लोगान के निर्देशक और सह-लेखक के साथ इस प्रोजेक्ट के लिए बात करना आरंभ किया, चूंकि हॉलीवुड में जिम सबसे प्रतिभाशाली और सबसे सफल निर्देशकों में से एक हैं और उन्होंने कई पीढियों के लिए बेहतरीन फिल्में बनाई हैं, लिहाजा वह एक बेहतरीन लेखक और स्क्रिप्ट लिखने वाले हैं। जब उन्होंने पिछली बार वॉल्वोरीन के साथ-साथ केट तथा लियोपोल्ड पर काम किया था। मैंने इनके साथ जो पहली फिल्म की थी, इन्होंने उसकी स्क्रिप्ट लिखी थी और उस फिल्म को निर्देशित भी किया था, इसलिए मैं इस बात की संभावना को लेकर उत्साहित था। इस फिल्म के लिए मेरे पास एक स्पष्ट तस्वीर थी। असल में मेरे पास स्पष्ट दृश्य था कि मैं इस फिल्म के साथ क्या करना चाहता हूं। मैं अपने एक दोस्त के साथ था और हमने शराब पी थी और उसने कहा कि अगर तुम किरदार के साथ जो चाहते हो, वह करना चाहते हो तो वह क्या होगा? और फिर मैं बोलता गया, बोलता गया। अगली सुबह मैं मिशेल (स्विट्जर) के साथ था। वह फिल्म में अपराध में मेरे साथ थी और मैंने उसे सारी बात बताना शुरू किया। फिर उसने मुझे लिखने का सुझाव दिया और मैंने तुरंत इसे रिकॉर्ड कर लिया। उसके पास यह रिकॉर्डिंग अभी भी है। एक दिन मुझे पता चला कि मैंने इसमें से कुछ हिस्सा खो दिया है और ऐसा लगा जैसे इसके बीच में से 19 अध्याय मैंने खो दिए हैं लेकिन उस रिकॉर्डिंग में मैंने जो कहा था और न्यू मैक्सिको में मैंने जो शॉट लिए हैं, उनमें काफी समानता है। जहां तक कहानी की वास्तविकता सबसे पहली बात तो यह कि मैंने जिम से कहा कि मेरे पास कुछ बेहतर सोच है, जिसका संबंध अनफॉरगिवन से है। हालांकि यह जरूरी नहीं कि कुछ साल पहले आई अनफॉरगिवेन में क्या हुआ था। कहानी की शुरुआत में मैंने वॉल्वरीन को पाया कि वह खोया हुआ था। वह निराश था। वह बुजुर्ग था। फिल्म में कुछ और निराशाजनक पहलू भी थे और वह बीमार था। प्रत्यक्ष तौर पर वह लोहा खाता रहता था लेकिन मैं इसे भी ठीक समझता हूं, पर क्या होगा जब कोई व्यक्ति 130 वर्ष से घूमते हुए धातु खाता रहे। यहां तक कि उसकी प्रतिरोधक क्षमता भी है और वह ठीक हो सकता है, उसी समय इस ग्रह पर हर व्यक्ति धीमा हो जाता है। लडने की शरीर की क्षमता लगातार कम होती जाती है। यह वॉल्वरीन के लिए एक समान स्थिति थी। बॉलीवुड के बारे में बात करते हुए कहते हैं मेरी फिजी में शाहरुख खान से मुलाकात हुई थी और उन्होंने मुझे बॉलीवुड की फिल्मों के बारे में कुछ जानकारी दी, जिसे आप मेरी अगली फिल्मों में देख सकते हैं। बॉलीवुड की फिल्मों में गाना है, नृत्य है, जैसा कि मैंने एक बार पहले भारत में देखा था, भारत से मैं बहुत आकर्षित हूं और इसके इतिहास एवं संस्कृति से अचंभित हूं। इस बार मैं अपनी पत्नी को दक्षिण भारत ले जाना चाहता हूं, जहां प्राचीन वैदिक का अध्ययन कर सकूं। मैं भारत में अपने समर्थकों के बारे में भी भली-भांति जानता हूं।