लखनऊ:बिहार के मुख्यमंत्री व जनता दल (यू) के अध्यक्ष नीतीश कुमार ने राज्य के जद (यू) अध्यक्ष को पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोप में बर्खास्त कर दिया था। यूपी विधानसभा चुनाव के बीच में बिहार के मुख्यमंत्री व जनता दल (यू) के अध्यक्ष नीतीश कुमार को राज्य के पार्टी अध्यक्ष सुरेश निरंजन को बर्खास्त करना भारी पड़ता जा रहा है। पार्टी के इस फैसले के बाद जद (यू) प्रदेश कमेटी के 82 नेताओं ने एक साथ इस्तीफा दे दिया है। इन लोगों का कहना है कि निरंजन को हटाने का निर्णय डैमोक्रेटिक नहीं है।

AdvertisementRelated image

प्रदेश अध्यक्ष को हटाए जाने से थे नाराज
जद (यू) के यूपी जनरल सैक्रेटरी सुभाष पाठक ने बताया कि चुनावों से पहले हम लोगों से कहा गया कि पार्टी सभी सीटों पर कैंडिडेट्स खड़ा करेगी लेकिन बीच में ही ऑर्डर मिले की अब चुनाव नहीं लडऩा है। बिना किसी बातचीत के इस तरह का फैसला ठीक नहीं है। सुरेश निरंजन को हटाने का फैसला भी सही नहीं है। यही वजह है कि प्रदेश की पूरी यूनिट अपने पदों से तत्काल इस्तीफा देती है। उल्लेखनीय है कि सुरेश निरंजन पर अखिलेश यादव के साथ मिलकर पार्टी विरोधी गतिविधियों को अंजाम देने का आरोप है।

AdvertisementRelated image