चीन और भारत ने आपसी रिश्तों पर जताई …

0
76

बीजिंग : विदेश सचिव एस. जयशंकर ने चीन के शीर्ष राजनयिक यांग जिएची से बातचीत की जिसमें एनएसजी की सदस्यता के लिए भारत की कोशिशों और जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख मसूद अजहर पर संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंध पर चीन की बेरूखी के बावजूद दोनों ने सकारात्मक रिश्ते विकसित करने के प्रति मजबूत प्रतिबद्धता जताई।

श्रीलंका से यहां पहुंचे जयशंकर ने चीन के स्टेट काउंसिलर यांग से मुलाकात की। यांग भारत और चीन के बीच के सीमा विवाद निबटाने के तंत्र के लिए चीन के विशेष प्रतिनिधि हैं। चीन सरकार में सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के स्टेट काउंसिलर को देश के नेतृत्व के तहत सीधे काम करने वाले शीर्ष राजनयिक की हैसियत है।

देश की सत्ता एवं कम्युनिस्ट पार्टी के मुख्यालय झोंगनानहाइ में जयशंकर का स्वागत करते हुए यांग ने कहा कि मतभेदों के बावजूद दोनों पक्षों के बीच के रिश्तों में पिछले साल सकारात्मक विकास हुआ। यांग ने चीन में भारत के राजदूत की हैसियत से जयशंकर के योगदान की सराहना की और कहा कि अनेक स्तरों पर दोनों देशों के बीच अच्छा संवाद एवं संचार है। अर्थव्यवस्था, कारोबार, संस्कृति एवं लोगों के आदान-प्रदान के क्षेत्रों में दोनों देशों के बीच अच्छा सहयोग जारी है।

उम्मीद की जा रही है कि जयशंकर चीन के विदेश मंत्री वांग यी से मुलाकात करेंगे। वह कल चीन के कार्यकारी विदेश उपमंत्री झांग येसुइ के साथ सामरिक संवाद में भी कल हिस्सा लेंगे। सामरिक संवाद की अहमियत रेखांकित करते हुए चीन ने वार्ता के लिए झांग को इसमें रखा है जो चीनी विदेश मंत्रालय की प्रभावशाली सीपीसी समिति के मुखिया भी हैं। उल्लेखनीय है कि पिछले साल वांग की भारत यात्रा के दौरान नई दिल्ली में सामरिक संवाद का स्तर उन्नत किया गया था।