खगड़िया/ राजेश सिन्हा
बिहार में पूर्ण शरबबंदी के बाद भी विभिन्न थाना क्षेत्रों से न केवल दर्जनों बार शराब की बरामदगी हुई बल्कि शराब कारोबारियों को जेल की सलाखों के पीछे भेजा भी गया। लेकिन जिलाधिकारी जय सिंह तथा पुलिस कप्तान मीनू कुमारी के संयुक्त आदेश से आज ऐसा कुछ हुआ, जिसे जानकर शराब माफियाओं के रुह कांप ग़ये। दो अलग_ अलग थाना क्षेत्रों में शराब माफियाओं के विरुद्ध की गई कार्रवाई की सर्वत्र चर्चा हो रही है। जिलाधिकारी जय सिंह तथा पुलिस कप्तान मीनू कुमारी के संयुक्त आदेश पर दंडाधिकारी के तौर पर प्रतिनियुक्त किये गये प्रखंड विकास पदाधिकारियों की मौजूदगी में शराब माफियाओं के घरों को सील किया गया। परबत्ता थाना क्षेत्र अंतर्गत सलारपुर गांव स्थित मंटू यादव के घर को प्रतिनियुक्त दंडाधिकारी सह प्रखंड विकास पदाधिकारी डॉक्टर कुंदन कुमार तथा गोगरी एसडीपीओ राजन कुमार सिन्हा की मौजूदगी में थानाध्यक्ष प्रमोद कुमार के द्वारा सील किया गया वहीं बेलदौर थाना अंतर्गत जीरोमाईल के समीप स्थित फूलो सिंह के पुत्र अजित कुमार के आवासीय परिसर को दंडाधिकारी सह प्रखंड विकास पदाधिकारी अमरेन्द्र कुमार सिन्हा की मौजूदगी में थानाध्यक्ष शशि कुमार ने सील कर शराब माफियाओं को बड़ा संदेश दिया है। पुलिस अधीक्षक के आदेश पत्रांक 1742/ सीसी 13.05.2017 के आलोक में की गई कार्रवाई को देखने के लिए लोगों की भारी भीड़ उमड़ती रही। दरअसल शराब पर प्रतिबंध लगाये जाने के बाद भी बीते मार्च माह में इन शराब माफियाओं के द्वारा न केवल चोरी छिपे शराब की बिक्री की जा रही थी बल्कि गुप्त सूचना के आधार पर घर से शराब,बीयर और अन्य नशीली पेय पदार्थ बरामद किये गये थे। संशोधित उत्पाद अधिनियम के तहत हो रही कार्रवाई से शराब माफियाओं में हड़कंप व्याप्त हो गया है।

AdvertisementRelated image