पृथ्वी पर आज भी ऐसी जगहें मौजूद हैं जिनका भूगोल के नक्शे में कोई नाम नहीं लिखा गया है. लेकिन, दुनियाभर में खोज करने के लिए घूमने वाले लोग इन जगह के अस्तित्व के बारे में विश्व को बताते रहे हैं. प्रशांत महासागर यानि ‘पैसेफिक ओशियन’ के अंदर ‘जीलएंडिया’ नाम का एक बड़ा द्वीप है, जिसे महाद्वीप की मान्यता देने की कवायद तेज हो गई है.

AdvertisementRelated image

शुक्रवार को जारी किए गए एक नए अध्ययन में ये कहा गया है कि पानी में डूबे इस विशाल द्वीप को महाद्वीप का दर्जा दिया जाना चाहिए. ये द्वीप लगभग भारतीय उप-महाद्वीप जितना ही बड़ा है और इसलिए इसे महाद्वीप बनाए जाने पर जोर दिया जा रहा है. इस समय इसका 94 प्रतिशत हिस्सा जलमग्न है.

रिसर्चरों ने कहा है कि दक्षिण पश्चिमी प्रशांत महासागर का 49 लाख किलोमीटर का क्षेत्र महाद्वीपीय परत से बना है. उनका कहना है कि ऑस्ट्रेलिया से इसके अलग होने और भरपूर भू-क्षेत्र होने के कारण इसे ‘जीलएंडिया’ का नाम दिया जाना चाहिए.

न्यूजीलैंड के विक्टोरिया यूनिवर्सिटी ऑफ वेलिंगटन और ऑस्ट्रेलिया के यूनिवर्सिटी ऑफ सिडनी के अनुसंधानकर्ता इस द्वीप के अध्ययन में लगे हैं. उन्होंने ने ही जीलएंडिया की पहचान भूगर्भीय महाद्वीप के रूप में की है

AdvertisementRelated image