राजेश सिन्हा / खगड़िया

AdvertisementRelated image

खगड़िया डीएम जय सिंह व एसपी अनिल कुमार सिंह सहित तमाम वरीय पदाधिकारियों को अक्सर कठघरे में खड़े करते आ रहे मानसी के दबंग बीडीओ मनोज कुमार अग्रवाल पर गाज गिरना तय हो गया है। कुछ दिनों की रहस्मयी चुप्पी के बाद आज डीएम व एसपी ने इस मसले पर मुंह खोला और कहा कि बीडीओ की कार्यशैली सरकारी सेवकों के अनुरुप नहीं है। बीडीओ के द्वारा जिले के वरीय पदाधिकारियों पर मनगढंत आरोप लगाया जाना और फिर मीडिया में उछाला जाना कहीं से भी सरकारी सेवकों को शोभा नहीं देता। हालांकि पहली बार इस तरह की स्थति सामने नहीं आयी है जहां लगभग तीन माह से पदाधिकारी, पत्रकार सहित जनप्रतिनिधियों पर तरह तरह का आरोप लगाकर सुर्खियां बटोरते रहे मानसी बीडीओ मारपीट का नजारा भी सार्वजनिक करने से बाज नहीं आए हैं। मानसी के साथ साथ चित्रगुप्तनगर थाना में शिकायत दर्ज होने के बाद मानसी बीडीओ बिना अवकाश के ही कही चले गए और डीएम के द्वारा उन्हें जिली मुख्यालय में योगदान का आदेश दिया गया। काफी मशक्कत के बाद उन्होंने जिला मुख्यालय में योगदान तो किया लेकिन उसके बाद से वह लम्बी छुट्टी पर चले। अवकाश पर जाने के बाद से वह लगातार सोशल साईट पर अपनी जान का खतरा बताते हुए बयानबाजी कर रहे हैं। बीडीओ के द्वारा डीएम, एसपी, पूर्व विधायक रणवीर यादव, जदयू विधायक पूनम देवी यादव, मानसी प्रमुख बलवीर चांद सहित अन्य पदाधिकारियों से अपनी जान को खतरा बताया जा रहा है। एसपी के द्वारा गार्ड उपलब्ध कराए जाने के बाद भी मामला ठंढ़ा नहीं पड़ा है। बहरहाल, इस मामले को लेकर राजनीतिक पारा के साथ साथ प्रशासनिक पारा भी उबाल खा रहा है।

AdvertisementRelated image